Loading...
Hindi

जानिए क्या है चिकन पॉक्स के कारण और बचाव

Please follow and like us:

मौसम के बदलने के साथ ही संक्रामक रोगों के बढ़ने का सिलसिला भी बढ़ जाता है ऐसे में बच्चों में संक्रामक रोग काफी तेज़ी से बढ़ते है। आज हम आपको बताएँगे की कैसे बच्चों में चिकन पॉक्स फैलता है और इसकी रोकथाम के लिए क्या करना चाहिए। मुख्य रूप से चिकन पॉक्स का संक्रमण 1 से लेकर 10 वर्ष के बच्चों को ही होता है ऐसे में इस वर्ग के बच्चों का विशेष खयाल रखना जरूरी है। मुख्य रूप से यह संक्रमण खान पान की लापरवाही से होता है ऐसे में माता पिता को भी कई प्रकार सावधानिया भी बरतनी पड़ेंगी।

जनइये क्या है चिकन पॉक्स के कारण

  • यह बीमारी मुख्य रूप से ख़राब खान पान की वजह से होती है और ऐसे में गलत खाना और गन्दा पानी पीना इस बीमारी को दावत देने जैसा है।
  • अत्यधिक ठण्ड या गर्मी होने की वजह से भी यह समस्या होती है आपको बता दें की ठण्ड में बेरीसेला नामक एक वायरस एक्टिव होता है जो इस समस्या को काफी प्रभावित करता है।
  • जिन बच्चों की त्वचा ज़्यादा संवेदनशील होती है उन बच्चों को चिकन पॉक्स होने की समस्या ज़्यादा होती है।
  • अगर आप नहाने के दौरान ज़्यादा कड़े साबुन का इस्तेमाल कर रहे है तो भी त्वचा में इन्फेक्शन हो सकता है और यह समस्या हो जाने का खतरा बढ़ जाता है।
  • जो बच्चे माँ का दूध पीते है जब वो एकाएक दूध छोड़ कर खाद्य पदार्थ लेना शुरू करते है तो भी यह समस्या हो सकती है।

जानिए क्या है चिकन पॉक्स के लक्षण

  • इस समस्या के दौरान बुखार आता है जो दो दिनों तक रहता है और उसके बाद शरीर पर दाने निकल आते है एवं शरीर में काफी दर्द होता है।
  • यह लाल रंग के उभरे हुए दाने होते है।
  • लाल रंग के उभरे हुए दाने बाद में फफोलों का रूप ले लेते है जिनमे काफी खुजली भी होती है।
  • इन फफोलो में मवाद भी पद जाता है जिस वजह से बच्चों को काफी समस्या का सामना करना पड़ता है।
  • भूक ना लगना और उलटी आना इस समस्या का मुख्य लक्षण है।

चिकन पॉक्स में कैसे रखें ख़याल

  • इस समस्या का सबसे जरूरी कदम यह है की आप खुले में राखी चीज़ों का ख्याल रखें और जितना हो सके उन्हें खाने से बचें क्योँकि इस से समस्या बढ़ सकती है।
  • यह बीमारी एक संक्रामक बीमारी है जो एक व्यक्ति से दुसरे व्यक्ति को होती है ऐसे में अगर किसी को यह बामारी हुई है तो उस व्यक्ति से दूरी बना कर रखें।
  • यह कोई संक्रामक बीमारी नहीं है लेकिन इस समस्या में शरीर कमज़ोर हो जाता है।

हम आशा करते है की यह जानकारी आपके लिए ज्ञानवर्धक सिद्ध हुई होगी और आप इसे अपने मित्रों के साथ आवश्य शेयर करेंगे अगर इस लेख से जुड़ा आपका कोई सुझाव या टिपण्णी हो तो हमारे साथ आवश्य शेयर करें।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *